असाधारण आसूचना कुशलता पदक 2024 से सम्मानित हुए बुढ़सैनी के देवदत्त शर्मा

Views


- दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सैना ने आतंकवाद, उग्रवाद व विद्रोह की रोकथाम करने, आतंकवाद, उग्रवाद व संगठित अपराधों के मॉड़यूल्स का पता लगाने, इनसे जुड़े सदस्यों को गिरफ्तार करने के लिए किया देवदत्त शर्मा को सम्मानित


- देवदत्त शर्मा असाधारण साहस और कौशल के लिए प्रेसिडेंट मेड़ल ऑफ गैलेंट्री अवार्ड, तीन बार आउट ऑफ टर्न प्रमोशन, 

5 बार कमीशनर ऑफ दिल्ली से 5 लाख रूपये कैश रिवार्ड सहित अनेकों पुरस्कारों से किये जा चुके है पुरस्कृत व सम्मानित 


बागपत, उत्तर प्रदेश। विवेक जैन। जनपद बागपत को गौरवान्वित करने वाले बुढ़सैनी गांव के देवदत्त शर्मा पुत्र स्वर्गीय ईलमचंद शर्मा को दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सैना ने असाधारण आसूचना कुशलता पदक 2024 से पुरस्कृत व सम्मानित किया। देवदत्त शर्मा को असाधारण आसूचना कुशलता पदक 2024, उनके उत्कृष्ट कार्य निष्पादन, अदम्य एवं साहसिक आसूचना सेवा, आतंकवाद, उग्रवाद व विद्रोह की रोकथाम करने, आतंकवाद, उग्रवाद व संगठित अपराधों के मॉड़यूल्स का पता लगाने, इनसे जुड़े सदस्यों को गिरफ्तार करने, गंभीर और व्यापक रूप से अपराध और सार्वजनिक अव्यवस्था के विरूद्ध आसूचना एकत्र करने में असाधारण साहस और कौशल के लिए प्रदान किया गया। देवदत्त शर्मा प्रेसिडेंट मेड़ल ऑफ गैलेंट्री सहित अनेकों पुरस्कारों से पुरस्कृत व सम्मानित किये जा चुके है। वह 5 बार पुरस्कार स्वरूप कमीशनर ऑफ दिल्ली की और से 5 लाख रूपये कैश रिवार्ड रूप में प्राप्त कर चुके है। उनके कार्यो को देखते हुए उनको तीन बार आउट ऑफ टर्न प्रमोशन मिला। वह वर्ष 1990 में दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल पद पर दिल्ली पुलिस के सुरक्षा विभाग में तैनात हुए। वर्ष 2003 में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सैल में तैनाती हुई। वर्ष 2004 में हैड़ कांस्टेबल, वर्ष 2013 में एएसआई और वर्ष 2019 में सब इंस्पेक्टर बने। देवदत्त शर्मा ने छोटा शकील एंड़ दाउद के शूटरों, बटला हाउस केस के अपराधियों, जामा मस्जिद शूट एंड़ ब्लास्ट केस में अंड़र वर्ल्ड डान फजलू रहमान की गिरफ्तारी, मुन्ना बजरंगी की गिरफ्तारी सहित अनेकों बड़े अपराधियों को गिरफ्तार कराने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की और शुरू से लेकर अब तक दिल्ली पुलिस की स्पेशल सैल में अपनी अहम सेवा प्रदान कर रहे है। देवदत्त शर्मा ने अपनी समस्त उपलब्ध्यिों को श्रेय अपने माता-पिता, गुरूजनों और सहयोगियों को दिया है। कहा कि उनके लिए देश से बढ़कर कुछ भी नही है।


0/Post a Comment/Comments

Ads 1

Ads1

Ads 2

Ads2