आज का इतिहास 6 फरवरी : चांद की धरती पर इंसान ने खेला था गोल्फ, लता मंगेशकर की पुण्यतिथि आज

Views




 यह सुनकर आप शायद हैरान रह जाएंगे कि करीब 51 साल पहले आज ही के दिन इंसान ने चांद की धरती पर गोल्फ खेला था। नासा के मून मिशन अपोलो-14 के क्रू का हिस्सा रहे अंतरिक्ष यात्री एलन शेफर्ड ने आज ही के दिन 1971 में चांद पर गोल्फ खेला था। एलन शेफर्ड ने उस समय चांद की सतह पर दो गोल्फ की गेंदें हिट की थीं। इस घटना के 50 साल बाद 2021 में अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा (NASA) ने चांद पर खेली गई उन गोल्फ की गेंदों को खोज निकालने का दावा किया था।

चांद पर गोल्फ खेलने की रोचक कहानी
दरअसल, नासा ने 31 जनवरी 1971 को अपना 8वां मून मिशन अपोलो-14 लॉन्च किया था। अपोलो-14 लॉन्चिंग के करीब एक हफ्ते बाद 06 फरवरी 1971 को चंद्रमा पर लैंड हुआ था। इस मून मिशन पर तीन लोग एलन शेफर्ड, स्टुअर्ट रूसा और एडगर मिशेल गए थे, जिन्होंने चांद की सैर की थी।

इन तीनों में से एलन शेफर्ड गोल्फर थे और वह गोल्फ स्टिक और गोल्फ बॉल को अपने स्पेस सूट में छिपाकर ले गए थे। चांद पर लैंडिंग के बाद अपना काम खत्म करके एलन शेफर्ड ने वहां गोल्फ खेलते हुए दो गेंदों को हिट किया था। इसके साथ ही वह चांद की धरती पर गोल्फ खेलने वाले पहले इंसान बन गए।

अपोलो-14 मिशन 9 दिन 2 मिनट का था। इस मिशन के दौरान शेफर्ड और एडगर ने चांद पर 9 घंटे 24 मिनट का समय बिताया था, जो चांद पर सबसे ज्यादा समय बिताने का रिकॉर्ड है। इस मिशन के दौरान अंतरिक्षयात्री अपने साथ 42 किलो मिट्टी और 450 करोड़ साल पुराना क्रिस्टेलाइन रॉक का नमूना भी लेकर आए थे, जो एकदम सफेद रंग का था।

नासा ने चांद पर खेली गई गोल्फ की गेंदों की लोकेशन बताई थी
अमेरिका स्पेस एजेंसी नासा ने चांद पर गोल्फ खेले जाने की घटना के 50 साल बाद अपने ट्विटर हैंडल पर तस्वीरें शेयर करते हुए चांद पर खेली गई गेदों की लोकेशन बताई थी। इन गेंदों को अतंरिक्ष यात्री एलन शेफर्ड ने 1971 में चांद पर अपनी गोल्फ स्टिक से हिट किया था।

नासा ने इमेजिंग एक्सपर्ट एंडी सॉन्डर्स की मदद से चंद्रमा की सतह पर गेंद की सही लोकेशन का पता लगाया था। सॉन्डर्स ने गेंद की लोकेशन का पता अपोलो-14 की तस्वीरों से लगाया। नासा के वैज्ञानिक ये भी बताने में कामयाब रहे कि गेंद गोल्फ स्टिक से हिट किए जाने के बाद चांद की सतह पर कितनी दूर जाकर गिरी। नासा के मुताबिक, पहली गेंद 24 गज दूर जबकि दूसरी गेंद 40 गज दूर जाकर गिरी थी।

एलिजाबेथ-II को इंग्लैंड की महारानी बने 70 साल पूरे

एलिजाबेथ-II आज ही के दिन इंग्लैंड की महारानी बनी थीं। एलिजाबेथ ने 06 फरवरी 1952 को ब्रिटेन की गद्दी संभाली थी। उस वक्त वो महज 26 साल की थीं। 21 अप्रैल 1926 में एलिजाबेथ अलेक्जेंड्रा मेरी का जन्म हुआ था। 1936 में उनके पिता किंग जॉर्ज-VI गद्दी पर बैठे।

एलिजाबेथ 18 साल की उम्र में दूसरे विश्व युद्ध के दौरान सेना में ड्राइवर बनीं। 1947 में उन्होंने फिलिप माउंटबेटन से शादी की। 1952 में केन्या में उनके पिता का अचानक निधन हो गया। जिसके बाद एलिजाबेथ को ब्रिटेन की महारानी घोषित किया गया। 2 जून 1953 को उनका राजतिलक किया गया।

भारत और दुनिया में 6 फरवरी की महत्वपूर्ण घटनाएं इस प्रकार हैं:

2017ः वीके शशिकला तमिलनाडु की तीसरी महिला मुख्यमंत्री बनीं।

2007ः अमेरिका के इमोरी यूनिवर्सिटी में दलाई लामा प्रोफेसर नियुक्त हुए।

1999ः कोलकाता में देश का पहला पेसमेकर बैंक खुला।

1994ः पाकिस्तान में सार्वजनिक फांसी पर प्रतिबंध लगा।

1987ः जस्टिस मैरी गॉडरन ऑस्ट्रेलिया की हाईकोर्ट में जज बनने वालीं पहली महिला बनीं।

1983ः भारतीय क्रिकेटर एस. श्रीसंत का केरल के कोच्चि में जन्म। वो केरल के पहले रणजी खिलाड़ी हैं, जिन्होंने भारत के लिए टी-20 खेला।

1959ः जस्टिस अन्ना चांडी केरल हाईकोर्ट की पहली महिला जज बनीं।

1931ः देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के पिता मोतीलाल नेहरू का इलाहाबाद में निधन।

1918ः 30 साल से ज्यादा उम्र की महिलाओं को वोटिंग का अधिकार मिला।


0/Post a Comment/Comments