नगर निगम कमिश्नर अबिनाश मिश्रा ने सफाई व्यव्सथा में लापरवाही पर सुपरवाइजर को किया निलंबित, ठेकेदार पर लगा जुर्माना

Views

 


रायपुर। नगरीय प्रशासन मंत्री अरूण साव द्वारा नागरिकों तक सफाई व बुनियादी सुविधाओं की पहुंच सुनिश्चित करने दिए गए निर्देशों के अनुरूप नगर निगम रायपुर अपनी सभी व्यवस्थाओं को सुदृढ़ करने में जुटा हुआ है। कलेक्टर डॉ. गौरव कुमार सिंह के मार्गदर्शन में नागरिक सुविधाओं को बेहतर बनाने नगर निगम आयुक्त ने कई वार्ड का औचक निरीक्षण किया।

कचना मुख्य मार्ग की सफाई विलंब पाते हुए उन्होंने जोन के सफाई सुपरवाइजर को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है, एवं जोन कमिश्नरों से कहा है कि चेतावनी के बाद भी लापरवाही बरतने वालों के सफाई ठेके निरस्त कर दें तथा नागरिक सुविधाओं में कमी पाए जाने पर तत्काल कार्यवाही करें। वार्ड क्र. 8 के अनुबंधित सफाई ठेकेदार नंद गोपाल पर पंडित मोतीलाल नेहरू वार्ड क्रमांक 8 में गंदगी पाए जाने एवं निर्धारित संख्या से कम सफाई कामगार पाये जाने पर भविष्य के लिए कड़ी चेतावनी देते हुए जोन-09 कमिश्नर द्वारा 10 हजार रूपए का जुर्माना लगाया गया। भ्रमण के दौरान अधीक्षण अभियंता राजेश शर्मा, जोन कमिश्नर संतोष पांडेय, विमल शर्मा, हेल्थ ऑफिसर ए.के. हलदार सहित राजस्व अधिकारी एवं निगम के अधिकारी-कर्मचारी भी साथ थे।

निगम आयुक्त मिश्रा ने आज आनंद नगर, आनंद विहार कॉलोनी में सफाई व जल निकास व्यवस्था का मुआयना करने पहुंचे। रायपुर स्मार्ट सिटी व नगर निगम यहां जल भराव की समस्या को दूर करने नाले का निर्माण कर रहा है। कार्य की प्रगति की उन्होंने मौके पर समीक्षा की एवं कहा है कि निर्माण कार्य फरवरी अंत तक पूरे कर लिए जाएं। उन्होंने सुविधानुसार मैनुअल या मैकेनिकल तकनीक से नाले-नालियों की सफाई के लिए भी संबंधित अमले को कहा है। उन्होंने इस दौरान राजस्व अमले द्वारा टैक्स वसूली के लिए डोर-टू-डोर संपर्क में जुटे राजस्व अमले से भी बात की और कहा कि मकान मालिकों को यह भी बताएं कि टैक्स अदायगी डीडीएन प्लेट, मोर रायपुर एप्प, नज़दीकी च्वाइस सेंटर, जोन कार्यालय अथवा नगर निगम मुख्यालय में किए जाने की सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने राजस्व अधिकारियों से कहा है कि ऐसे घर जहां व्यावसायिक गतिविधियां संचालित की जा रही है, वहां टैक्स की वसूली व्यावसायिक भवन मानते हुए की जाए।

आयुक्त मिश्रा कचना रेलवे फाटक में निर्माणाधीन फ्लाईओव्हर व विस्थापन के संबंध में जानकारी ली। उन्हें अवगत कराया गया कि रेलवे द्वारा किए गए सर्वेक्षण के दौरान 112 घर रेलवे की भूमि पर बने पाए गए है, जिनका विस्थापन ए.एच.पी. कॉलोनियों में किया जा रहा है। कचना के जीएडी कॉलोनी, एएचपी कॉलोनी जाकर उन्होंने नागरिकों से सफाई व मूलभूत सुविधाओं के संबंध में फीडबैक लिए। उन्हांेने इन कॉलोनियों में मूलभूत सुविधाओं की उपलब्धता के लिए वेलफेयर सोसायटी को जरूरी बताया है और लोगों से कमेटी बनाने का अनुरोध किया। इस दौरान उन्होंने डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन सफाई मित्रों की ड्यूटी आदि के संबंध में जानकारी भी सभी से ली।

 

0/Post a Comment/Comments